Upload ओर download क्या है, ओर इसमे क्या अंतर है,

Upload ओर download क्या है, ओर इसमे क्या अंतर है, – यदि आप Internet का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको इसे प्राप्त करना और जोड़ना होगा। हालाँकि आपने सीखा है कि क्या download है और क्या Upload है। यह Internet दुनिया के भीतर एक बहुत ही परिचित शीर्षक हो सकता है क्योंकि इन दो तकनीकी वाक्यांशों का उपयोग बहुत ज्यादा किया जाता है। Download करने का अर्थ है Internet से जानकारी प्राप्त करना, Upload करने का अर्थ है अपने लैपटॉप से ​​जानकारी भेजना या Internet के भीतर कहीं फ़ाइल भेजना।

Downloading के शब्द को सुनने पर, हमें गति चित्रों, गीतों के बारे में एक विचार मिलता है। जहां भी मुझे अपने विचारों के आधार पर नए गाने और फिल्में मिलती हैं। जबकि Upload के शब्द को सुनकर, हम अपने ई मेल में कागजी कार्रवाई को Upload करने की अवधारणा प्राप्त करते हैं, Photo को Fb में Upload करते हैं। Upload ओर download क्या है, ओर इसमे क्या अंतर है,

Uploading” और “Downloading” शब्द का उपयोग डिजिटल सूचना हस्तांतरण के प्रकार को इंगित करने के लिए किया जाता है। इन दोनों के बीच Difference of principle इसके स्विच के मार्ग के भीतर है। तो इस समय मैंने मान लिया है, क्यों मुझे आपको इस बारे में विस्तार देना होगा कि क्या है और क्या है और इन दोनों में क्या अंतर है। इसके साथ, आप सभी को इस विषय से जुड़ा पूरा डेटा मिलता है। फिर, तुरंत, शुरू करते हैं और जानते हैं कि यह क्या प्राप्त करता है और जोड़ता है और उनके बीच क्या अंतर है।

Upload and downloa

Downloading क्या है – What Is Download

डाउनलोड करने का अर्थ है सर्वर से फ़ाइलों को एक छोटी (छोटी) परिधीय इकाई (व्यक्तिगत प्रणाली) में स्थानांतरित करना। जब आप अनुरोध करते हैं तो आपके कंप्यूटर में विभिन्न सर्वरों से डेटा ट्रांसफर होता है।

अगर इसे कंप्यूटर नेटवर्क की भाषा में कहा जाए, तो ‘टू डाउनलोड’ का मतलब है कि आपके स्थानीय सिस्टम या रिमोट सिस्टम में डेटा प्राप्त करने के लिए डेटा ट्रांसफर किया जाए। यहां डेटा को इंटरनेट से कंप्यूटर में पुनर्प्राप्त किया जाता है। इसके अलावा, हम इन डाउनलोड की गई फ़ाइलों को अस्थायी रूप से सहेज भी सकते हैं और उपयोग किए जाने के बाद उन्हें हटा सकते हैं, या उन्हें डाउनलोड कर सकते हैं और उन्हें स्थायी रूप से संग्रहीत कर सकते हैं और लंबे समय तक उपयोग किया जा सकता है।

ये डाउनलोड की गई फ़ाइलें कभी भी स्वचालित रूप से स्टोर हो जाती हैं कुछ विशेष स्थान पर आपके कंप्यूटर या किसी दुस्साहस डिवाइस में हैं। उन्हें स्वचालित रूप से एक्सेस किया जा सकता है, उन स्थानों से जब आवश्यकता होती है। वहीँ दुसरे मामलों में, उपयोगकर्ता भी स्थान का चुनाव कर सकता है की वो कहाँ पर डाउनलोड की गई फ़ाइलों को सहेजना चाहता है जिससे उसमें की ढूंडने में बहुत आसानी से हो सकता है।

डाउनलोड का मतलब है की डेटा प्राप्त करना अर्थात् जो भी डाउनलोड करने के लिए प्रस्ताव किया गया था वह डाउनलोड किया जा सकता है। आप इंटरनेट से कोई भी प्रकार के फ़ाइलों को डाउनलोड कर सकते हैं जैसे की दस्तावेज़, संगीत, वीडियो, चित्र और सॉफ़्टवेयर। डाउनलोड गति है मापी गई हो जाती है प्रति सेकंड मेगाबाइट्स (एमबीपीएस) में।

Upload क्या है – What is upload

अपलोड करने का अर्थ है एक छोटी परिधीय प्रणाली से बड़ी केंद्रीय प्रणाली में फ़ाइलों को स्थानांतरित करना जिसे सर्वर भी कहा जाता है।

यदि इसे कंप्यूटर नेटवर्क की भाषा में कहा जाए, तो ‘अपलोड करने के लिए’ का अर्थ किसी दूरस्थ प्रणाली में स्थानीय प्रणाली से डेटा प्राप्त करना है। यहां इंटरनेट में डेटा को कंप्यूटर से पुनर्प्राप्त किया जाता है। अपलोड करने का सबसे सामान्य प्रकार वह है जहाँ एक उपयोगकर्ता इंटरनेट सर्वर पर एक डिजिटल फाइल अपलोड करता है। ये अपलोड की गई फाइलें तब किसी वेबसाइट के सर्वर में स्टोर हो जाती हैं और कोई भी इसे देख सकता है जिसकी इंटरनेट तक पहुंच है।

इसके अलावा, कई वेबसाइटें हैं जो उपयोगकर्ताओं को डिजिटल फ़ाइलों को अपलोड करने की अनुमति देती हैं जिन्हें वे स्टोर भी कर सकते हैं। यह उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट में अधिक और बड़ी फ़ाइलों को संग्रहीत करने में मदद करता है, क्योंकि उनके पास अपने कंप्यूटर या किसी अन्य डिवाइस में अपनी सीमित भंडारण क्षमता है। चूँकि कई स्टोरेज वेबसाइटों में फाइल अपलोड करने की अनुमति है,

यह अन्य उपयोगकर्ताओं या अन्य उपकरणों को उन अपलोड की गई फाइलों तक पहुंचने की अनुमति देता है। इसके साथ एक और बात यह है कि इन फाइलों को भी सार्वजनिक किया जा सकता है ताकि हर कोई इसे एक्सेस कर सके और निजी भी हो सके, ताकि इसे एक्सेस करने के लिए अनुमति की आवश्यकता हो।

पी 2 पी नेटवर्क में फाइलें या फाइल शेयरिंग अपलोड करने का काम होता है, जो हमेशा पीयर कंप्यूटर के बीच होता है, जहां सर्वर-क्लाइंट तकनीक को अपलोड किया जाता है, यहां अपलोड करना नहीं है। एक विशेष मशीन पर ग्राहकों से एक सर्वर कहा जाता है। अपलोड गति को मेगाबिट्स प्रति सेकंड (एमबीपीएस) में मापा जाता है।

File Sharing क्या है?

P2P (सहकर्मी से सहकर्मी) फ़ाइल साझा करने वाले उपयोगकर्ताओं को अनुमति देते हैं क्या मीडिया फ़ाइलें जैसे की पुस्तकें, संगीत, फ़िल्में, और गेम को एक्सेस करने के लिए P2P सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम की मदद से जो की खोज करता है दुसरे जुड़े कंप्यूटरों को जो की P2P नेटवर्क Desired जुड़े हुए हैं, जिससे वांछित सामग्री को आसानी से पता लगाया जा सकता है। यहाँ पर ऐसे नेटवर्क के नोड्स (सहकर्मी) एंड-यूज़र कंप्यूटर सिस्टम होते हैं जो की इंटरनेट की मदद से परस्पर जुड़े होते हैं। P2P थोडा अलग होते हैं जिसमें की सर्वर-क्लाइंट तकनीक होती है क्यूंकि यहाँ पर डाउनलोड की गई फ़ाइलें सर्वर से हैं।

अपलोड और डाउनलोड का तुलना:

डेटा का हस्तांतरण एक प्रणाली से दुसरे सिस्टम को जो होता है उसे या तो डाउनलोड करने या कहने को अपलोड कर रहे हैं, ये परिस्थितियों के ऊपर निर्भर करता है। जो प्राथमिक अंतर ये दोनों के बिच वो ये की डेटा की दिशा में स्थानांतरण हो रहा है।

Upload Download
Definition इसका मतलब है की जब files की copy छोटे (smaller) peripheral system से एक बड़े (larger) central system पर होता है इसका मतलब है की जब files का transfer एक बड़े server से छोटे peripheral unit पर होता है तब
Data sent यहाँ पर data send किया जाता है remote system से system (server) तक यहाँ पर data receive किया जाता है server से personal system पर.
Process ये download process का उल्टा होता है ये upload process का उल्टा होता है.
Space Server में बहुत सारा space होना चाहिए जब file uploading हो रहा है तब Computer या Disk में ज्यादा space होना चाहिए जब कोई file downloading हो रहा हो तब.
Access यहाँ पर ये files दूसरों के द्वारा भी आसानी से access किया जा सकता है यहाँ पर files केवल उस Local system के owner के द्वारा ही access किया जा सकता है जिसने Download किया है.
Client ये data transfer करता है client से server तक ये data transfer करता है server से client तक.
Time ये file के size पर निर्भर करता है ये file के size पर निर्भर करता है.
Risk of virus यहाँ पर virus का कोई खतरा नहीं होता है यहाँ पर virus से infect हो जाने का बहुत खतरा होता है.

इंटरनेट से चीज़ों को डाउनलोड करना और उन्हें साझा करना एक आम बात है, लेकिन ऐसा करने से होने वाले जोखिमों के विषय में अवगत रहना बहुत ही आवश्यक है।

फ़ाइल शेयरिंग और असुरक्षित डाउनलोड से क्या है?

जब भी हम कोई फ़ाइल साझा करते हैं या कोई फ़ाइल इंटरनेट से डाउनलोड करते हैं तो बहुत सारे कार्य शामिल हैं जैसे कि एक प्रोग्राम स्थापित करना, चित्र को खोलना, विभिन्न वेबसाइटों के लिंक या अज्ञात ई-मेल, संगीत फ़ाइलों को डाउनलोड करना इत्यादि। ये फाइलें वैँ समान भी भी हो सकती हैं या फिर इसके साथ कुछ खराबी भी जुड़ी हुई हो सकती हैं जैसे की कोई वायरस, Upload ओर download क्या है, ओर इसमे क्या अंतर है,

कीड़े या फिर कोई विनाशकारी कार्यक्रम जो की आपके सिस्टम को ख़राब कर सकते हैं। आप बिना जाने भी कई बार दूसरों को अपने कंप्यूटर का उपयोग दे देते हैं जिससे आपकी व्यक्तिगत फ़ाइलों में निहित हैं। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि जब आपसे कोई अपनी फ़ायरवॉल सेटिंग्स को बंद करने के लिए कहता है तो वह पीर-से-पीर (पी 2 पी) से कोई फ़ाइल अपलोड करने में सक्षम नहीं है, किसी भी फ़ाइल साझाकरण कार्यक्रम में, इससे आपका सिस्टम बहुत कमजोर हो जाता है।

ऐसे बहुत से वायरस, ट्रोजन और दुसरे मैलवेयर आपके कंप्यूटर में घुस जाते हैं आपकी अनुमति के बिना और आपके डेटा को नष्ट कर देते हैं। ये सब चीजें आपके पीछे होती हैं इसलिए आप कुछ भी पता नहीं चलता है। इसके अलावा बहुत से वेबसाइट हैं जो की ऐसी अप्राकृतिक लिंक प्रदान करती हैं जिन पर क्लिक करने से अनचाही चीजें डाउनलोड होती हैं।

युक्तियाँ सुरक्षित डाउनलोड करने के लिए:
  • जब आप भी कोई फ़ाइल डाउनलोड कर रहे हों तब तब कंप्यूटर पर आने वाले सभी एप्लिकेशन को बंद कर दें जिससे आपको डाउनलोड करने में आसानी हो और आपके बिना अनुमति के कोई भी ऐसी ही चीज़ स्थापित नहीं हो।
  • सभी महत्वपूर्ण एप्लिकेशन को बंद कर दें ताकि आप सुरक्षित रूप से डाउनलोड कर सकें।
  • एंटीवायरस, फ़ायरवॉल को अच्छे से सेट करें ताकि वह आपकी डाउनलोड की गई फ़ाइलों को सक्रिय रूप से स्कैन कर ले।
  • हमेशा ईमेल के अनुलग्नक scan बिना स्कैन किए डाउनलोड न करें।
  • अपने सिस्टम में हमेशा एंटीवायरस, स्पैम फ़िल्टर और स्पाइवेयर का ही इस्तमाल करें।
  • कभी-कभी ऐसी फाइलें जैसे की संगीत, वीडियो, गेम किसी भी अविश्वासित वेबसाइट से डाउनलोड करें न ही व्हिस्पर आपका विस्वास न हो।
  • डाउनलोड करने से पहले हमेशा वेबसाइट का URL चेक करें और केवल सुरक्षित वेबसाइट जो की HTTPS का ही इस्तमाल करते हैं बस उन्ही से ही सामग्री डाउनलोड करें। Https संदर्भित करता है कि “हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल सुरक्षित” है।
  • केवल भरोसेमंद साइटों से ही करें और किसी आकर्षक सौदे के झांसे में न आयें।
  • यदि किसी वेबसाइट में कोई ख़राब शब्द प्रदर्शित नहीं हुआ है तो उसे वहीँ बंद कर दें ताकि आपके सिस्टम में कोई अवांछित सॉफ़्टवेयर या फ़्रीवेयर डाउनलोड न हो।
  • हमेशा डाउनलोड करने से पहले फ़ाइल की आकार जांच करें क्यूंकि कई बार जैसे आप डाउनलोड करते हैं उसी तरह कई बार उनका आकार बढ़ जाता है जो की पूरी नहीं होती है।
  • कभी भी ऐसे लुभावने लिंक पर क्लिक करें न करें जो की आपको बहुत सारी भुगतान की गई चीजें मुफ्त में प्रदान करने का प्रस्ताव करती हैं क्यूंकि यह अक्सर स्पैम लिंक होते हैं।
  • ऐसे लिंक पर क्लिक करें न करें जो की स्वचालित रूप से डाउनलोड करना शुरू कर देता है।
  • हमेशा अपने ब्राउज़र को सुरक्षित ब्राउज़र सेटिंग में ही इस्तमाल करें अन्यथा कोई भी चीज़ न डाउनलोड करें।
  • हमेशा नियम और शर्त- कोई भी एप्लिकेशन पहले स्थापित या चलाने से चलाता है।
  • बिना वेबसाइट की पूरी जानकारी प्राप्त किए कभी भी फ़ाइलें डाउनलोड करें।
  • प्रामाणिक वेबसाइट से ही डाउनलोड करें यदि आप कुछ डाउनलोड करना चाहते हैं तो फिर।

क्यूँ अपलोड गति हमेशा डाउनलोड गति की तुलना में धीमा होता है?

ये बात बहुत ही सामान्य है। इसका जो मुख्य कारण है वो ये की ज्यादातर हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्शन, जिसमें केबल मॉडेम और DSL आते हैं, वो सभी असममित होते हैं – उन्हें ख़ास तोर से ऐसा डिज़ाइन किया जाता है जिससे वो अपलोडिंग की तुलना में डाउनलोडिंग में बेहतर स्पीड कर सके। सके। ऐसा इसलिए क्यूंकि अधिकांश उपयोगकर्ता अपना ज्यादा वक़्त डाउनलोड कर रहे हैं

(जिसमें वेब पृष्ठों को देखने और मल्टीमीडिया फ़ाइलों को भी शामिल है) में गुजारते अपलोडिंग की तुलना में, ख़ास इसी कारण केवल उच्च गति वाले इंटरनेट प्रदाता अपने सिस्टम को ऐसे डिज़ाइन करते हैं जो की डाउनलोडिंग अधिक है प्राथमिकता देते हैं। इसलिए अगर आपकी अपलोड गति धीमी नज़र आती है तो डाउनलोड गति की तुलना में तब यह सामान्य बात है।

इसके अलावा एक और चीज़ भी है की इंटरनेट प्रदाताओं ने अपनी गति को विज्ञापित किलोबिट्स में करते हैं, जहाँ फ़ॉच रिपोर्ट की गति होती है किलोटाइट्स। 8 बिट्स के बराबर होता है 1 बाइट के लिए, इसलिए जो नंबर आप देखते हैं उनमें Fetch में वे छोटे नज़र आते हैं जो विज्ञापित संख्या की तुलना में आपके कनेक्शन के लिए हैं।

अगर आप Fetch के नंबर के साथ 8 गुणा करते हैं, तो आप इसके परिणाम में सटीक तुलना देख सकते हैं। उदहारण के लिए, एक 384/128 डीएसएल कनेक्शन में 384 किलोबाइट प्रति सेकंड डाउनलोड होता है, और 128 किलोबाइट प्रति सेकंड अपलोड होता है – जो की समान में 48 किलोबाइट प्रति सेकंड डाउनलोड होता है और 16 किलोबाइट प्रति सेकंड अपलोड होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here